कंडोम से भी नशा करने लगे है कई युवा – कैसे बचें, क्या है उपाए ? | International Day Against Drug Abuse & Illicit Trafficking

आजकल एक नई अनोखी खबर हमारे सामने आ रही है जिसे आपने न कभी सोचा होगा और ना कभी सुना होगाl कोंडोम का प्रयोग नशा के लिए किया जा रहा हैl पश्चिम बंगाल के दुर्गापुर में कंडोम की बिक्री में बढ़ोतरी देखने को मिल रही है, जिसका प्रमुख कारण कंडोम का एक नए तरीके से इस्तेमाल होना है। कंडोम को एक ड्रग के रूप में उपयोग करने की घटना ने लोगों का ध्यान आकर्षित किया है और यह एक गंभीर समस्या बन गई हैl
कंडोम से भी नशा करने लगे है कई युवा – कैसे बचें, क्या है उपाए ? | International Day Against Drug Abuse & Illicit Trafficking
Source: Istock

'नशीले पदार्थों के दुरुपयोग और अवैध तस्करी के खिलाफ अंतरराष्ट्रीय दिवस' (International Day Against Drug Abuse & Illicit Trafficking) हर साल 26 जून को दुनिया भर में मनाया जाता है। इस दिन का मुख्य लक्ष्य नशीली दवाओं के दुरुपयोग और अवैध तस्करी के मुद्दों के बारे में जागरूकता बढ़ाना और इन समस्याओं से निपटने के लिए वैश्विक पहल को प्रोत्साहित करना है, जो न केवल व्यक्तिगत और सामुदायिक स्वास्थ्य को प्रभावित करती हैं बल्कि गंभीर सामाजिक और आर्थिक चुनौतियां भी पैदा करती हैं।

नशीली दवाओं का दुरुपयोग: स्वास्थ्य पर प्रभावनशीली

नशीली दवाओं का दुरुपयोग एक महत्वपूर्ण स्वास्थ्य समस्या है जिसका शरीर और दिमाग दोनों पर हानिकारक प्रभाव पड़ता है। हेरोइन, कोकेन और मेथामफेटामाइन जैसे पदार्थ मस्तिष्क की संरचना और कार्य को बदलकर, संज्ञानात्मक क्षमताओं और निर्णय लेने के कौशल को खराब करके शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य को बहुत प्रभावित कर सकते हैं। लंबे समय तक नशीली दवाओं के सेवन से हृदय रोग, अंग क्षति और संक्रमण हो सकता है, साथ ही चिंता और अन्य विकारों जैसी मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं में भी योगदान हो सकता है। इसके अतिरिक्त, नशीली दवाओं के दुरुपयोग से व्यक्तिगत और सामाजिक जीवन पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है, जिससे रिश्तों और करियर के अवसरों पर असर पड़ सकता है।

अकसर हमे देखने और सुनाने को मिलता है कि छोटे शहरों और गांव मे छोटे छोटे बच्चे नशीले पदार्थ के आदि हो रहे हैl  खुद को नशे के लत मे इस तरह ढाल रही है कि वो नशे के लिए गलत रास्तों पर चल पड़ते है जैसे चोरी करना इत्यादिl

कंडोम से भी नशा करने लगे है कई युवा:

वही आजकल एक नई अनोखी खबर हमारे सामने आ रही है जिसे आपने न कभी सोचा होगा और ना कभी सुना होगाl कोंडोम का प्रयोग नशा के लिए किया जा रहा हैl पश्चिम बंगाल के दुर्गापुर में कंडोम की बिक्री में बढ़ोतरी देखने को मिल रही है, जिसका प्रमुख कारण कंडोम का एक नए तरीके से इस्तेमाल होना है। कंडोम को एक ड्रग के रूप में उपयोग करने की घटना ने लोगों का ध्यान आकर्षित किया है और यह एक गंभीर समस्या बन गई हैl

कुछ लोग फ्लेवर कंडोम का उपयोग एक नशीले पदार्थ के रूप में कर रहे हैं। कंडोम के लेटेक्स को गर्म पानी में उबालकर एक नशीली गैस प्राप्त की जा रही है, जिसे सांस के माध्यम से सेवन किया जा रहा है। यह एक खतरनाक और अस्वास्थ्यकर प्रथा है जो स्वास्थ्य के लिए गंभीर खतरा उत्पन्न करती है। यह प्रवृत्ति खासकर कम उम्र के युवाओं में लोकप्रिय हो रही है। नशे की लत और उपलब्धता की वजह से युवा इसे एक आसान उपाय के रूप में अपना रहे हैं।

जागरूकता और शिक्षा की महत्वपूर्ण भूमिका 

नशीली दवाओं के दुरुपयोग को रोकने के लिए लोगो के अंदर जागरूकता और शिक्षा एक अच्छा साधन हैं। स्कूलों, कॉलेजों और सामुदायिक केंद्रों में नशीली दवाओं के खतरों के बारे में जागरूकता अभियान चलाने की आवश्यकता है। साथ मे नुक्कड़ नाटक के माध्यम से लोगो को यह बता सकते है कि नशीली दवादवाओं के सेवन करने सी आगे क्या- क्या दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता हैं, इन अभियानों के माध्यम से युवाओं को नशीली दवाओं के दुष्प्रभावों के बारे में जानकारी देना और उन्हें नशीली दवाओं से दूर रहने के लिए प्रेरित करना आवश्यक है, और उन्हें स्वस्थ और सुरक्षित जीवनशैली अपनाने के लिए प्रोत्साहित किया जाना चाहिए। 

सरकार और समाज की भूमिका

सरकार और समाज दोनों ही नशीली दवाओं के दुरुपयोग और अवैध तस्करी से निपटने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। सरकार को नशीली दवाओं की तस्करी और दुरुपयोग को रोकने के लिए सख्त कानून और नीतियां लागू करनी चाहिए, साथ ही यह भी सुनिश्चित करना चाहिए कि कानून प्रवर्तन एजेंसियों के पास इन कानूनों को प्रभावी ढंग से लागू करने के लिए आवश्यक संसाधन हों। इसके अतिरिक्त, सरकार को नशीली दवाओं के दुरुपयोग से प्रभावित लोगों को उचित चिकित्सा और मानसिक स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान करने के लिए पुनर्वास केंद्रों और उपचार सुविधाओं का विस्तार करना चाहिए। पुनर्वास कार्यक्रम व्यक्तियों को समाज में फिर से शामिल होने और स्वस्थ जीवन जीने में मदद कर सकते हैं। समाज को भी नशीली दवाओं के दुरुपयोग के खिलाफ एकजुट होना चाहिए, जिसमें परिवार, दोस्त और समुदाय के सदस्य पीड़ितों को सहायता प्रदान करें। दुनिया भर में कानून प्रवर्तन एजेंसियों को सशक्त बनाने और नशीली दवाओं के उत्पादन और वितरण की निगरानी करने के लिए तकनीकी सहायता और प्रशिक्षण प्रदान करने के लिए अंतर्राष्ट्रीय सहयोग आवश्यक है। व्यक्तियों के रूप में, हमें एक स्वस्थ, सुरक्षित और नशीली दवाओं से मुक्त समाज बनाने के लिए नशीली दवाओं के दुरुपयोग और अवैध तस्करी के खिलाफ लड़ाई में योगदान देने की प्रतिज्ञा करनी चाहिए।

Stay connected to Jaano Junction on Instagram, Facebook, YouTube, Twitter and Koo. Listen to our Podcast on Spotify or Apple Podcasts.

logo
Jaano Junction
www.jaanojunction.com